States

सुशील मोदी बोले- लाल किला कांड के अभियुक्तों को 2-2 लाख देने का पंजाब सरकार का निर्णय शर्मनाक

पटनाः बीजेपी नेता और राज्यसभा के सदस्य सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने कहा कि संसद से पारित नए कृषि कानूनों के विरोध के नाम पर जिन लोगों ने 26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले (Red Fort) पर हमला किया, राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किया उनमें से 83 गिरफ्तार अभियुक्तों को 2-2 लाख रुपये देने का पंजाब सरकार (Punjab Government) का फैसला शर्मनाक और तोड़फोड़ को बढ़वा देने वाला है. उन्होंने कहा कि उन लोगों ने पुलिस अधिकारी पर ट्रैक्टर चढ़ाने का दुस्साहस किया है.

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी भी संविधान की शपथ लेकर कुर्सी पर बैठे हैं, लेकिन वे कानून तोड़ने और राष्ट्रीय पर्व को कलंकित करने वालों को पुरस्कृत करने की गलत परिपाटी शुरू कर रहे हैं. पंजाब की कांग्रेस सरकार राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के इशारे पर राजधर्म और संवैधानिक मर्यादा का हनन कर रही है. कैप्टन अमरिंदर सिंह इस स्तर तक नहीं गिर सकते थे, इसलिए पार्टी ने उन्हें अपमानित कर हटाया. बिहार में कांग्रेस के मित्र लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) बताएं कि क्या लाल किला हमले के अभियुक्तों को पुरस्कृत करना लोकतंत्र का सम्मान है? क्या वे सोनिया जी को फोन करेंगे?

यह भी पढ़ें-  Bihar Crime: भागलपुर में पागल ने पिता और भतीजे को कुल्हाड़ी से काटकर मार डाला, महिला और दूसरे शख्स को किया जख्मी

पंजाब के किसानों को हुआ सबसे ज्यादा फायदाः सुशील मोदी

आगे सुशील कुमार मोदी ने कहा कि किसानों को मंडी और बिचौलियों से आजादी दिलाने वाले कृषि कानून पंजाब-हरियाणा के मुट्ठी भर अमीर किसानों को छोड़ कर पूरे देश को स्वीकार्य हैं, लेकिन कांग्रेस, राजद और अन्य सहयोगी दल कथित किसान आंदोलन की पीठ पर हाथ रख कर प्रधानमंत्री मोदी की किसान-हितैषी सरकार को बदनाम करने में लगे रहे. इन लोगों ने एमएसपी बंद होने की अफवाह फैलाई, जबकि सरकार ने धान, गेहूं, सरसों सहित आधा दर्जन फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य 40 से 65 फीसद तक बढ़ाया. इस साल बढ़े हुए समर्थन मूल्य पर गेहूं की रिकॉर्ड खरीद हुई और इसका सबसे ज्यादा फायदा पंजाब के किसानों को हुआ.

यह भी पढ़ें- Bihar News: मधुबनी के RTI एक्टिविस्ट की हत्या मामले में 6 लोगों की गिरफ्तारी, सामने आया त्रिकोणीय प्रेम प्रसंग

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button