States

धर्मेंद्र प्रधान ने अखिलेश यादव पर साधा निशाना, बोले- यूपी में फिर बनेगी भाजपा की सरकार  

Dharmendra Pradhan Kanpur Visit: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly Election) को लेकर भाजपा (BJP) पूरी तरह से एक्टिव मोड पर नजर आ रही है. ‘मेरा परिवार भाजपा परिवार’ के स्लोगन के साथ भाजपा कार्यकर्ताओं को सक्रिय कर रही है. अभी 2.5 करोड़ सदस्य है, जिनकी संख्या को ढेड़ करोड़ और बढ़ाया जाएगा. इसी क्रम में कानपुर (Kanpur) पहुंचे केंद्रीय मंत्री और यूपी प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने कहा कि 17 जिलों में चुनावी सफलत के लिए बैठकें सम्पन्न हुई हैं. 2017 में यहां से बड़ा प्यार मिला था. फिर से प्यार मिलेगा, ऐसी उम्मीद है. पिछले 5 सालों में प्रदेश सुरक्षित है. 

फिर बनेगी भाजपा सरकार 
यूपी में कानून व्यवस्था के सवाल पर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कन्नौज में नीरज मिश्रा का सिर कलम कर दिया गया था. ऐसी घटनाएं उस समय यहां आम थीं, उस समय गुंडा राज था. आज प्रदेश से गुंडाराज खत्म है, कानून का राज है. सभी कल्याणकारी योजनाएं लागू हो रही हैं. आज मोदी और योगी सरकार ने सभी का भरोसा जीता है. पूरा विश्वास है कि फिर  भाजपा सरकार बनेगी. 

Corona Effect: लोगों के दिमाग पर कोरोना ने डाला असर, बच्चे भी हुए प्रभावित, ठीक करने पर हो रहा है मंथन   

अखिलेश यादव पर साधा निशाना 
बढ़ते अपराध पर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कुछ घटनाएं हुई है जिसका हमें दुख है. सपा मुखिया अखिलेश यादव के सीएम कार्यालय पर लगाए गए भ्रष्टाचार पर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि जो खुद छलनी है वो ना बोले. गोमती रिवर फ्रंट में 150 करोड़ के प्रोजेक्ट को हजारों करोड़ में पहुंचाकर भ्रष्टाचार किया गया था, जिसकी सीबीआई जांच कर रही है. उन्होंने कहा कि हर क्षेत्र में विकास हुआ है चाहे बिजली हो, खाद्यान्न वितरण हो सरकार  2017 के वादे पर खरी उतरी है. आज गुंडे जेल के अंदर हैं, ये हमारा वादा था. आज प्रदेश में छेड़खानी बंद हो चुकी है, बहू-बेटियां सुरक्षित हैं. जनता सही जवाब देगी. 

महंगाई को लेकर सरकार भी है चिंतित 
महंगाई पर धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि मैं मानता हूं कि महंगाई लोगों को चुभ रही है, सभी इस बात से चिंतित हैं सरकार भी इस बात से चिंतित है. लेकिन अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कोरोना वायरस के कारण पेट्रोलियम पदार्थ के उत्पादन में कमी हुई है. उसको इंपोर्ट करना होता है जिसमें मूल्य बढ़ने के कारण महंगाई बढ़ी है. पिछले 2 वर्षों में कोरोना के कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पेट्रोलियम पर इन्वेस्टमेंट कम हुआ है, जिसकी वजह से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतें बढ़ी हैं. प्रधानमंत्री ऊर्जा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर भारत बनाने की दिशा में कदम उठा रहे हैं. महंगाई पर आने वाले समय में लगाम लगेगी. कोरोना के बाद स्वास्थ्य और गरीब कल्याण में खर्चे बढ़े हैं. बढ़ी महंगाई को जस्टिफाई नहीं कर सकते हैं, लेकिन सरकार की नीयत और इमानदारी में स्वच्छता है, वो जनता के सामने हैं और जो सच है उसे जनता भी समझेगी. 
  
ये भी पढ़ें:        

Ayodhya Deepotsav 2021: लगभग 80 प्रतिशत पूरी हो चुकी हैं दीपोत्सव की तैयारियां, जानें- इस बार जलेंगे कितने दीप

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button