States

CM नीतीश ने छठ के पहले गंगा घाटों का किया निरीक्षण, कहा- व्रतियों की सुविधा का रखें ख्याल

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने लोक आस्था के महापर्व छठ (Chhath Puja 2021) के मद्देनजर बुधवार को छठ घाटों का निरीक्षण किया. उन्होंने स्टीमर से गांधी घाट से पटना सिटी के कंगन घाट तक गंगा घाटों का निरीक्षण किया. इसके बाद दानापुर के नासरीगंज तक भी उन्होंने गंगा घाटों का निरीक्षण किया. निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने घाटों की सफाई, सुरक्षा और स्वच्छता के संबंध में अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए.

अर्घ्य देने में कोई परेशानी न हो

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि गंगा नदी की टापूनुमा संरचना पर छठ व्रतियों को अर्घ्य देने में कोई परेशानी न हो, इसकी व्यवस्था सुनिश्चित करें. टापूनुमा संरचना पर छठ व्रतियों के आवागमन की व्यवस्था के लिए कलेक्ट्रेट घाट और महेन्द्रू घाट से टापूनुमा संरचना तक पीपापुल का निर्माण कराया जा रहा है. बांस घाट से भी टापूनुमा संरचना तक पीपा पुल के निर्माण की संभावनाओं को तलाशें. 

लालू यादव- ‘नीतीश कुमार का विसर्जन करने आए हैं, भक्त चरण दास भकचोन्हर’, ऐसे बयानों पर BJP ने कहा- सब उम्र का दोष

उन्होंने कहा कि छठ व्रतियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए छठ घाटों का निर्माण करें ताकि अर्घ्य देने में कोई परेशानी न हो. गंगा नदी के जलस्तर और प्रवाह को देखते हुए छठ घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम रखें. यह भी सुनिश्चित करें कि छठ व्रतियों की सुरक्षा के साथ-साथ उनको हर प्रकार की सहूलियत मिले. छठ घाटों के पास सुरक्षा के दृष्टिकोण से ठीक ढंग से बैरिकेडिंग कराएं. साथ ही नदी किनारे की सड़कों के पास भी बैरिकेडिंग कराएं. छठ व्रतियों की सुविधाओं का भी विशेष ख्याल रखें.

गंगा नदी का प्रवाह काफी ज्यादा

गंगा घाटों के निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पटना की गंगा नदी के किनारे बड़ी संख्या में लोग छठ महापर्व को मनाते हैं. छठ महापर्व की तैयारियों के मद्देनजर हम लोगों ने आज विभिन्न घाटों का जायजा लिया है. छठ घाटों की तैयारियों के संबंध में लोगों से विचार-विमर्श कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं. इस बार अधिक बारिश होने से गंगा नदी में पानी का प्रवाह काफी ज्यादा है. ऐसे में छठ घाटों पर सुरक्षा इंतजाम जरूरी हैं ताकि लोगों को कोई परेशानी नहीं हो. 

उन्होंने कहा कि अधिकारी और इंजीनियर गंगा के किनारे के घाटों का जायजा लेकर छठ महापर्व को लेकर स्थल का चयन करके काम शुरू कर देंगे ताकि छठ व्रतियों को कोई दिक्कत नहीं हो. मुख्यमंत्री ने कहा कि वे 3 नवंबर को एक बार फिर से छठ घाटों का निरीक्षण करके तैयारियों का जायजा लेंगे.

यह भी पढ़ें –

बिहार उपचुनावः तारापुर में गरजे लालू यादव, नीतीश कुमार को हमने मुख्यमंत्री बनाया

Bihar Board Exams 2022: बिहार बोर्ड ने दसवीं के डमी एडमिट कार्ड्स में करेक्शन की अंतिम तिथि आगे बढ़ाई

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button