States

RJD पर भड़के बिहार सरकार के मंत्री, पढ़ें मुकेश सहनी ने लोगों से क्या कहा

पटनाः विकासशील इंसान पार्टी (VIP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी (Mukesh Sahani) ने मंगलवार को तारापुर और कुशेश्वर स्थान विधानसभा क्षेत्र में एनडीए (NDA) गठबंधन के प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार किया. इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) भी इस चुनावी सभा में उपस्थित थे. आरजेडी (RJD) पर हमला बोलते हुए मुकेश सहनी ने कहा कि साल 2005 से पहले बिहार में जंगलराज था. उस समय में बिहार में लोगों को सरकार से मदद मिलने की कोई आशा नहीं रह गई थी. दशकों तक बिहार राज्य गरीबी, हिंसा और भ्रष्टाचार के लिए एक कहावत बन गया था लेकिन नीतीश कुमार ने 2005 के बाद स्थिति बदल दी. विपक्ष कितना भी जोड़ लगा ले, लेकिन जनता उनके झांसे में नहीं आने वाली. विधानसभा उपचुनाव में एनडीए जीत का कीर्तिमान स्थापित करेगी.

मुकेश सहनी ने कहा कि नीतीश कुमार का सुशासन का फॉर्मूला ईमानदारी, प्रभावकारी कदमों पर आधारित है. उन्होंने त्वरित अदालतों का गठन किया जिसने तीन सांसदों समेत करीब 66 हजार अपराधियों को सजा दी. नीतीश कुमार ने सड़कों के निर्माण पर काफी मेहनत की और पांच साल के अंदर करीब 33 हजार किलोमीटर सड़कों का निर्माण कराया. आज बिहार राज्य औद्योगिक पावरहाउस कहे जाने वाले गुजरात राज्य के बाद अब भारत में दूसरे नंबर पर है.

यह भी पढ़ें- Bihar Politics: देश में सबसे ज्यादा घमंडी शख्स कौन है? जानिए लालू प्रसाद यादव की जुबानी

घरों से निकलने में नहीं डरते लोग

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के शुरुआती दौर की बात करते हुए मुकेश सहनी ने कहा कि 2005 में जब नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने थे तब वह एक ऐसे उम्मीदवार थे जिनके पास केवल एक मुद्दा था बिहार का विकास, साथ ही बिहार में अपराधियों पर लगाम लगाना. सरकार में आने के बाद उन्होंने पुलिसकर्मियों की हजारों खाली सीटों को भरा. सुरक्षा व्यवस्था मजबूत हुई. दुकानदार ज्यादा देर तक अपनी दुकानें खोलने लगे. लोग अब देर शाम तक घर से निकलने से नहीं डरते.

मुकेश सहनी ने कहा, “मैं अपने निषाद समाज की बात करूं तो आज बहुत सारी योजनाएं मछुआरा भाइयों के लिए चलाए जा रहे हैं. मछुआरों एवं मत्स्यपालकों के लिए संचालित नाव योजना. ‘फिश ऑन व्हील’ योजना. मछुआरों एवं उनके परिवारों के लिए संचालित बीमा योजना सहित कई योजनाओं का लाभ मिल रहा है.” सहनी ने कहा कि नीतीश कुमार के साथ पार्टी कदम से कदम मिलाकर चल रही है.

यह भी पढ़ें- Chhath Puja 2021: औरंगाबाद के देव में छठ पर नहीं लगेगा मेला, हर साल आते हैं 15 से 20 लाख श्रद्धालु, जानें गाइडलाइंस

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button