States

गोपालगंज में बदलाव की लहर, 12 पंचायतों में मुखिया पद पर नए चेहरे, महिलाओं का दिखा जलवा

गोपालगंजः बिहार के गोपालगंज में तीसरे चरण के पंचायत चुनाव का परिणाम रविवार की शाम जारी हो गया. गोपालगंज जिले के भोरे प्रखंड की 17 पंचायतों में आठ अक्टूबर को ईवीएम व बैलेट पेपर से मतदान कराया गया था. रविवार को मतगणना शुरू होने के करीब 45 मिनट बाद ही चुनाव परिणाम आने लगे. ईवीएम में पड़े वोटों की गिनती पहले राउंड में की गई. उसके बाद बैलेट पेपर से कराए गए मतदान की गिनती हुई. भोरे प्रखंड के हरदिया, चकरवां खास, भोरे, डूमर नरेंद्र बनकटा जागिरदारी, गोपालपुर, सिसई, हुस्सेपुर व बगहवां मिश्र में महिला प्रत्याशियों ने मुखिया पद पर जीत हासिल की है. वहीं, 17 पंचायतों में 12 ऐसी पंचायत हैं, जहां पर मुखिया पद पर नए चेहरे को जीत का ताज मिला.

इनमें हरदिया पंचायत की मुखिया अनिता देवी हार गईं हैं. यहां प्रेमशीला देवी को जीत मिली है. भोरे पंचायत में मुखिया रहीं पदुम देवी जिन्होंने पिछले चुनाव में जीत दर्ज करने का रिकॉर्ड बनाया था, इसबार उन्हें प्रियंका कुमारी से करारी शिकस्त मिली है. वहीं, गोपालपुर पंचायत की मुखिया चिरैया देवी को लोगों को नकार दिया है, यहां कविता देवी को मौका मिला है. सिसई पंचायत की मुखिया रहीं कृता देवी भी चुनाव हार गईं हैं. यहां अन्नू मिश्रा को जीत मिली है. खदहीं पंचायत के वर्तमान मुखिया विनोद साह पर लोगों ने भरोसा नहीं जताया है, यहां से शाह आलम को जीत मिली है. बगहवां मिश्र पंचायत की मुखिया रहीं सुनीता देवी चुनाव हार गईं हैं, यहां मतदाताओं ने दीपमाला देवी को मुखिया को चुना है.

वहीं जगतौली में भी बदलाव की बयार दिखी है. यहां वर्तमान मुखिया आकांक्षा देवी को करारी हार मिली है. जगतौली से अशोक साह ने जीत दर्ज की है. इसी प्रकार लामीचौर पंचायत से मुखिया रहे ऋषिदेव पांडेय को भी हार का सामना करना पड़ा है. यहां तीन बार से चुनाव हार रहे मोहन कुमार सिंह को लोगों ने इस बार मौका दिया है. कल्याणपुर पंचायत की मुखिया कदम देवी भी चुनाव हार गईं हैं, यहां जनता ने राजू साह पर भरोसा जताया है.

इसी प्रकार बनकटा जागीरदारी पंचायत के मुखिया रहीं सरिता देवी को करारी हार मिली है. यहां प्रीति देवी ने जीत दर्ज की है. डूमर नरेंद्र पंचायत में मुखिया रहे सुरेंद्र मांझी ने इस बार अपनी बहू अनीता मांझी को चुनाव मैदान में उतारा था, जनता ने अनीता मांझी पर भरोसा जताते हुए उन्हें मुखिया चुना है. वहीं चकरवां में वर्तमान मुखिया रहे विजय कुमार तिवारी ने अपनी पत्नी को अर्पिता देवी को चुनाव मैदान में उतारा था, जिसे जनता ने स्वीकार किया और विजयी बनाया.

पांच मुखियाओं ने बचा लिया ताज

भोरे प्रखंड के पांच पंचायत ऐसे निकले, जहां वर्तमान मुखिया को मतगणना के बाद विजयी घोषित किया गया. इन पंचायतों में छठियांव पंचायत के मुखिया कृष्ण कुमार मिश्र, कोरेया से सुनील कुमार राय, रकबा में उमेश बैठा, हुस्सेपुर में विमला देवी तथा डोमनपुर में कमलेश प्रसाद ने 2021 का चुनाव जीत अपनी ताज बचा ली.

सिसई की अन्नू मिश्रा सर्वाधिक 1,389 मतों से जीतीं

भोरे प्रखंड के पंचायत चुनाव में सिसई पंचायत की मुखिया प्रत्याशी अन्नू मिश्रा ने रिकार्ड मतों से जीत हासिल की है. अन्नू मिश्रा पहली बार मुखिया के चुनाव मैदान में उतरीं और 2,371 मत हासिल की. वहीं इनके निकटम प्रतिद्वंदी रहे वर्तमान मुखिया कृता देवी 982 वोट पर ही सिमट गईं. इस प्रकार अन्नू मिश्रा को 1,389 मतों से विजयी घोषित किया गया. मतगणना केंद्र से परिणाम आने के बाद मुखिया समर्थकों में खुशी छा गई.

जिला पर्षद में ललीता व सुशीला जीतीं

वहीं, जिला पर्षद के चुनाव में दो महिला प्रत्याशियों ने जीत हासिल की है. भोरे प्रखंड के जिला पर्षद क्षेत्र संख्या छह से ललीता चौहान ने जीत हासिल की. ललीता को कुल 11 हजार 769 मत प्राप्त हुए हैं. वहीं इनके निकटतम प्रत्याशी रहे उषा देवी को 6,557 मत मिले हैं. कुल 5,212 मतों से ललीता चौहान हो विजयी घोषित किया गया. वहीं जिला पर्षद क्षेत्र संख्या सात से सुशीला देवी ने बाजी मारी है. इससे पहले वे बीडीसी सदस्य थीं. सुशीला को कुल 13 हजार 741 मत मिले हैं, जबकि उनके निकटतम प्रत्याशी रहे लीलावती देवी को कुल 7,559 मत मिले हैं. इस प्रकार सुशीला देवी ने 6,182 मतों से जीत हासिल की हैं. दोनों महिला प्रत्याशियों की जीत से समर्थकों में उत्साह है.

यह भी पढ़ें- 

Bihar By-Election: 2 सीटों पर चिराग पासवान फिर पहुंचाएंगे JDU को नुकसान? नीतीश कुमार के मंत्री का बड़ा बयान

Bihar News: गोपालगंज में चुनावी रंजिश में 3 महिलाओं को घसीटकर पीटा, 250 लोगों की भीड़ घर के दरवाजे पर पहुंची

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button