States

रामविलास की पुण्यतिथि पर PM नरेंद्र मोदी ने भेजा शोक संदेश, यादों से जुड़ी बातों को लिखा

पटनाः पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) की पहली पुण्यतिथि के मौके पर उनके बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने शुक्रवार की शाम को दिल्ली में अपने आवास पर एक कार्यक्रम आयोजित किया. इस मौके पर केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh), कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi), आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) समेत कई दिग्गज नेता पहुंचे. इस बीच देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी पत्र लिखकर रामविलास पासवान के प्रति शोक संदेश भेजा.

प्रधानमंत्री के शोक संदेश को ट्वीट कर चिराग पासवान ने लिखा, “हमारे नेता ‘पद्म भूषण’ आदरणीय रामविलास पासवान जी के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का संदेश. इस पत्र के लिए प्रधानमंत्री जी का बहुत बहुत धन्यवाद.” प्रधानमंत्री ने भेजे गए अपने शोक पत्र में रामविलास पासवान की यादों से जुड़ी बातों को लिखा है. इसके साथ ही कई और बातें भी लिखी हैं. अंत में पीएम मोदी ने रामविलास पासवान को अपनी विनम्र श्रद्धांजलि दी है.

दिल्ली में चिराग तो पटना में पशुपति कुमार पारस

बता दें कि रामविलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) ने बिहार की राजधानी पटना में कार्यक्रम का आयोजन किया था. वहीं, रामविलास के बेटे चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने दिल्ली में पिता की पुण्यतिथि पर कार्यक्रम का आयोजन किया. दोनों ने अलग-अलग कार्यक्रम का आयोजन कर अपनी शक्ति प्रदर्शन की कोशिश की है.

पटना में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) समेत नीतीश कैबिनेट के कई मंत्री और अन्य नेता शामिल हुए. नीतीश कुमार ने कहा, “रामविलास पासवान ने इतना काम किया है, इतनी लोकप्रियता हासिल की है कि हमेशा लोग उनकी चर्चा करेंगे, उन्हें जानेंगे. हमारा काफी पुराना संबंध रहा है. उनकी उम्र नहीं थी जाने की, लेकिन तबीयत ऐसी हो गई की उन्हें जाना पड़ा. इस बात से मुझे काफी तकलीफ हुई.” वहीं लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव भी पुण्यतिथि कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे.

यह भी पढ़ें- 

Navratri 2021: बांका का तिलडीहा दुर्गा मंदिर तांत्रिक शक्तिपीठ के रूप में विख्यात, जानें इसका इतिहास और महत्व

65th BPSC: औरंगाबाद की अदिति ने असफलता को बनाया हथियार, तीसरे प्रयास में बनीं DSP, माता-पिता बने रोल मॉडल



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button