States

वारदातों को रोकने के लिए नोएडा पुलिस ने शुरू किया कैब वेरिफिकेशन का अभियान

Cab Verification in Noida: पिछले दो-तीन महीनों से नोएडा, ग्रेटर नोएडा में एक ऐसा गैंग सक्रिय हो गया है जो कैब में बैठी सवारियों और कैब चालकों को अपना शिकार बना रहा है. यही वजह है कि, नोएडा पुलिस ने अब नोएडा-ग्रेटर नोएडा में चलने वाले सभी कैब का सत्यापन शुरू कर दिया है, ताकि कैब चालक और गाड़ी मालिक का कोई अपराधिक इतिहास हो तो उसके सहारे इस गैंग तक पहुंचा जा सके. 

कैब का होगा वेरिफिकेशन

नोएडा पुलिस की माने तो नोएडा एनसीआर में हजारों की संख्या में कैब चलती हैं. ज्यादातर रजिस्टर्ड कैब सड़कों पर दौड रही हैं, लेकिन इन कैब की आड़ में कुछ अनरजिस्टर्ड कैब भी चल रही हैं, जिनके सहारे यात्रियों को कैब चालकों को लूटा जा रहा है. यही वजह है कि, अब पुलिस इस गैंग पर शिकंजा कसने के लिए नोएडा-ग्रेटर नोएडा में चलने वाले करीब 19,800 कैब का वेरिफिकेशन करेगा, ताकि जो चालक कैब को चला रहे हैं, उनका कोई अपराधिक इतिहास तो नहीं है, इसका पता लगाया जा सके, क्योंकि अक्सर देखा गया है कि, कई कैब चालक अपराधिक प्रवृत्ति के थे और उन्होंने कई बड़ी घटनाओं को अंजाम भी दिया है इसलिए कैब चालकों का वेरिफिकेशन होना बेहद अहम है.

बिना रजिस्ट्रेशन के कैब में सफर ना करें

नोएडा पुलिस ने बताया कि, अधिकांश देखा गया है कि, बिना बुकिंग किए ही लोग कैब में सवारी करने लगते हैं जो पूरी तरह से गलत है. बिना ऐप से रजिस्ट्रेशन के किसी भी कैब में सवारी करना जोखिम भरा हो सकता है, क्योंकि आपका कोई भी रिकॉर्ड ना तो कंपनी के पास होता है और ना ही आपके पास कि, आपने किस कैब से सफर किया है इसलिए नोएडा पुलिस ने भी एबीपी गंगा के माध्यम से आम जनता से अपील की कि अगर वो कैब का इस्तेमाल करती है तो बिना रजिस्ट्रेशन के कैब में सफर ना करें. 

खुद सवारी बनकर बैठ जाते हैं बदमाश 

नोएडा पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि, कुछ वारदातें तो ऐसी देखी गई है कि बदमाश खुद सवारी बनकर कैब में बिना रजिस्ट्रेशन कराए बैठ जाते हैं और आगे चलकर कैब चालक से गाड़ी लूटकर फरार हो जाते हैं. इसके अलावा यह भी देखा गया है कि, कुछ गाड़ियों में टैक्सी की नंबर प्लेट लगाकर बदमाश सवारिया बैठाते हैं और उसके बाद लूट की वारदात को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं और जब उन टैक्सियों को पुलिस खंगालती है तो पता चलता है कि उन टैक्सियों का कोई रिकॉर्ड किसी भी कंपनी के पास नहीं है ऐसे में उन बदमाशों को ट्रेस करना पुलिस के लिए भी बेहद मुश्किल होता है.

इसीलिए अब नोएडा पुलिस उन सभी व्यक्तियों का वेरिफिकेशन करा रही है जो नोएडा ग्रेटर नोएडा में इस समय चल रही हैं, ताकि इस तरह की वारदातों को रोका जा सके. 

ये भी पढ़ें.

Lakhimpur Kheri Case: पुलिस के सामने कब पेश होगा आशीष मिश्रा? केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ने दिया जवाब

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button