States

उत्तराखंड में बार-बार सीएम बदलकर भी सत्ता में वापसी करेगी बीजेपी, या कांग्रेस मारेगी बाजी?

ABP Cvoter Survey for Uttarakhand Election 2022: पहाड़ी राज्य उत्तराखंड आबादी और विधानसभा की सीटों के लिहाज से तो छोटा है, लेकिन सियासी तौर पर उथल पुथल में वहां कोई कमी नहीं रहती है. उत्तराखंड में साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं ऐसे में सियासत जोरों पर है.

इन सबके बीच आपके चैनल एबीपी न्यूज़ ने सी वोटर के साथ मिलकर जनता का मूड जाना है. सर्वे के मुताबिक साढ़े चार साल में तीन बार मुख्यमंत्री बदलने के बाद भी बीजेपी की पकड़ कमजोर नहीं हुई है. बीजेपी एक बार फिर से अपने दम पर उत्तराखंड की सत्ता पर काबिज हो सकती है.

एबीपी न्यूज़-सी वोटर के सर्वे के मुताबिक उत्तराखंड में अगर अभी विधानसभा चुनाव होते हैं तो कांग्रेस को 34 फीसदी, बीजेपी को 45 फीसदी, तो वहीं आम आदमी पार्टी को 15 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं. अन्य के खाते में 6 फीसदी वोट जाता दिख रहा है.

उत्तराखंड में किसे कितने वोट?

कुल सीट- 70

कांग्रेस- 34%
बीजेपी- 45%
आप-15%
अन्य- 6%

उत्तराखंड के सर्वे के मुताबिक वोट शेयर को अगर सीटों में तब्दील करें तो बीजेपी को 42-46, कांग्रेस को 21-25, तो वहीं आम आदमी पार्टी को शून्य से चार सीटें मिल सकती हैं. अन्य के खाते में शून्य से दो सीटें आ सकती हैं.

उत्तराखंड में किसे कितनी सीट?

कुल सीट- 70

कांग्रेस- 21-25
बीजेपी-  42-46
आप- 0-4
अन्य- 0-2

बता दें कि काफी पहले ही साल 2022 में होने वाले उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करके आम आदमी पार्टी ने चुनावी रणभेरी भी बजा दी है. तो वहीं सत्ताधारी पार्टी बीजेपी और मुख्य विपक्षी कांग्रेस ने भी कमर कस ली है. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत कई बड़े नेता चुनावी रणनीति बनाने भी पहुंचने लगे हैं. तो वहीं अरविंद केजरीवाल भी लगातार लुभावने वादे कर रहे हैं. कांग्रेस पार्टी भी लगातार अपनी जमीन मजबूत करने में जुटी है.

नोट- यूपी, पंजाब सहित देश के पांच राज्यों में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनावी राज्यों में राजनीतिक तापमान गर्म है. ऐसे माहौल में abp न्यूज के लिए C VOTER ने पांचों चुनावी राज्य का मूड जाना है. इस सर्वे में 98 हजार से ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया है. सर्वे  4 सितंबर 2021 से 4 अक्टूबर के बीच किया गया है. इसमें मार्जिन ऑफ एरर प्लस माइनस तीन से प्लस माइनस पांच फीसदी है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button