States

शिवानंद तिवारी के बयान पर JDU का तंज, मक्खी की तरह निकालकर फेंक दिया गया फिर भी तेज प्रताप शांत

पटनाः आरजेडी (RJD) के कद्दावर नेता शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) ने बुधवार को एक बयान दिया था कि लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. उनके इस बयान को अब आड़े हाथों लेते हुए जेडीयू के नेता निखिल मंडल (Nikhil Mandal) ने तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) पर हमला बोला है. तेज प्रताप से पूछा कि आप शांत क्यों हैं?

गुरुवार को निखिल मंडल ने ट्वीट कर कहा, “क्या तेजप्रताप भाई, शिवानंद बाबा कह रहे हैं आपको राजद ने बाहर का रास्ता दिखला दिया. पार्टी आपकी और आपको ही दूध में से मक्खी की तरह निकालकर फेंक दिया गया. आप जिस तेजस्वी यादव का दिन-रात साथ देते हैं उसने भी चुप्पी साधी हुई है. आप तो बेबाक हैं फिर शांत क्यों? बाबा सही है क्या?”

शिवानंद तिवारी ने हाजीपुर में दिया था बयान

दरअसल, हाजीपुर में बुधवार को शिवानंद तिवारी ने कहा था कि तेज प्रताप पार्टी में हैं ही कहां? उन्होंने नया संगठन बनाया है. वो अब पार्टी में नहीं हैं. तेज प्रताप को पार्टी से निष्कासित किए जाने के सवाल पर कहा कि निष्कासित करने का क्या सवाल है. वह तो अपने निष्कासित हो चुके हैं. तेज प्रताप यादव ने जो संगठन बनाया है, उसमें उन्होंने लालटेन का सिंबल लगाया था, लेकिन उनको पार्टी ने कह दिया कि वो लालटेन का सिंबल नहीं लगा सकते हैं. इस बात को उन्होंने खुद कबूल किया कि उन्हें लालटेन का इस्तेमाल करने से मना कर दिया गया है. यह तो मैसेज क्लियर है.

हालांकि शिवानंद तिवारी से जब एबीपी न्यूज ने इस बारे में सवाल किया तो वह बैकफुट पर आ गए. उन्होंने कहा कि हमारा कोई स्टेटमेंट नहीं है. मैंने केवल उनकी (तेज प्रताप यादव) बात दोहराई है. लालू यादव ने खुद ही कहा कि हमें कोई बाधा नहीं है, जब उनके पिता ही कह रहे तो हम क्या कहें. बता दें कि शिवानंद के इस बयान के बाद तेज प्रताप या तेजस्वी यादव की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है जिसको लेकर जेडीयू नेता ने निशाना साधा है.

यह भी पढ़ें- 

Bihar By-Election: उप चुनाव में भी किस्मत आजमाने उतरीं पुष्पम प्रिया चौधरी, कहा- हमने योग्य उम्मीदवार दिया

Navratri 2021: पटना की एक ऐसी जगह जहां दुर्गा पूजा पर होती है सिंदूर की होली, यहां जुटते थे स्वतंत्रता संग्राम के दीवाने



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button