States

बस्ती में जमीनी विवाद के चलते पीड़ित परिवार ने की पेट्रोल डालकर आत्महत्या की कोशिश

Basti News: जमीन के विवाद को लेकर एक परिवार पिछले 1 हफ्ते से डीएम ऑफिस के बाहर धरने पर बैठा है, लेकिन किसी अधिकारी ने उनकी एक न सुनी जिसके बाद मंगलवार को इस परिवार ने पेट्रोल लेकर आत्महत्या का प्रयास किया. वहीं पुलिसकर्मियों की मदद से उसे ऐसा करने से रोक दिया गया.

इस दौरान राजस्व अधिकारी अनीता यादव पीड़ित परिवार को काफी समझाने का प्रयास करती नजर आई. मगर इस परिवार ने न्याय न मिलने पर धरने से उठने से साफ मना कर दिया. परिवार का कहना है कि उनकी जमीन पर जिला प्रशासन ने दबंगों का कब्जा करा दिया है और जब अपनी जमीन के लिए वे जिला प्रशासन से मांग कर रही है कि उनकी जमीन वापस की जाए, ऐसे में जांच के नाम पर सिर्फ कोरा आश्वासन दिया जा रहा है.

जानिए क्या है मामला

उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में योगी सरकार के उस दावे की पोल खुलती नजर आ रही है जिसमें एंटी भू माफियाओं के खिलाफ बने कानून और कार्रवाई के लिए आदेश जारी किया था. भू माफियाओं पर सख्त कार्यवाही को लेकर एक तरफ सरकार जहां पीठ थपथपा रही है. वहीं बस्ती शहर के सदर विधानसभा सभा के मूड़घाट गांव में रहने वाला एक पीड़ित परिवार न्याय के लिए अफसरों से गुहार लगा रहा है.

परिवार की जमीन दबंगों ने कब्जा कर ली और प्रशासन इन्हें न्याय देने के बजाए सिर्फ आश्वासन दे रहा है. कई दिनों से आला अधिकारियों के दरवाजे को खट खटाने के बाद कोई सुनवाई न होने की वज़ह से मजबूर होकर जिलाधिकारी कार्यालय पर 3 दिनों से पूरे परिवार के साथ धरने पर बैठा है.

पीड़ित की जमीन से निकलवाया खड़ंजा

बता दें कि बस्ती जिलाधिकारी कार्यालय पर सदर तहसील क्षेत्र के मूड़ घाट निवासिनी सुशीला देवी अपने पति और बच्चों के साथ जिलाधिकारी कार्यालय के सामने धरने पर बैठी हुई है. सुशीला देवी ने बताया कि उनके बैनामे की जमीन से जबरदस्ती दबंगों ने खड़ंजा निकलवा दिया है. इस संबंध में कई बार लिखित प्रार्थना पत्र देने के बाद भी अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है.

मामले मे होगी उचित कार्रवाई

सुशीला देवी ने बताया कि खड़ंजा निकालने वाले इलाके के दबंग हैं. वे सभी एक साथ मिलकर पुलिस और प्रशासन की मदद से जबरदस्ती उनसे दस्तखत करवा कर रास्ता कायम करवा लिया. सुसौम्या अग्रवाल डीएम ने बताया कि शीला देवी ने इस मामले में न्याय की गुहार लगाई है, जल्द ही मामले पर उचित कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ेंः
Punjab Politics: पंजाब को मिल सकता है नया प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, सिद्धू का इस्तीफा हो सकता है मंज़ूर

Chhatrasal Stadium Case: सागर धनखड़ मर्डर केस में सुशील कुमार को झटका, नहीं मिली जमानत

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button