States

तेजस्वी यादव के पत्र का JDU की ओर से मिला जवाब, कुछ सवाल भी पूछे गए, पढ़ें पूरी खबर

पटनाः बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) की ओर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को लिखे गए पत्र का जेडीयू (JDU) ने जवाब दिया है. दरअसल, पत्र लिखकर तेजस्वी यादव ने यह मांग की थी कि बिहार में हर साल बाढ़ और सुखाड़ की विभीषिका के कारण होने वाले नुकसान और नदी जोड़ने की लंबित योजना के महत्व को समझते हुए राज्यहित में उनके नेतृत्व में एक सर्वदलीय प्रतिनिधि मंडल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से मिलकर आपदा संबंधित उचित मांगों को रखे.

पत्र में किए गए सवाल पर जेडीयू के नेता निखिल मंडल (Nikhil Mandal) ने ट्वीट कर गुरुवार को कहा कि तेजस्वी यादव को अनुरोध की जरूरत नहीं है, बाढ़ से निजात कैसे पाया जाए इसपर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार काम कर रहे हैं. वैसे कुछ सवाल हैं, बाढ़ घोटाला में आपके परिवार के कितने सदस्य थे? बाढ़ आई मछली लाई किसने कहा था? गंगा मैया आपके द्वार आईं जिसने कहा था, क्या वो सही थे? जवाब है तो दीजिए?

मुख्यमंत्री ने तेजस्वी पर कसा था तंज

हालांकि, पत्र को लेकर बुधवार को मुख्यमंत्री से पूछा गया तो उन्होंने जानकारी नहीं होने की बात कहते हुए तेजस्वी यादव पर तंज कसा था. उन्होंने कहा कि हमें कोई पत्र नहीं मिला है. पत्र हमें मिलता कहां है. पत्र तो हमसे पहले मीडिया को मिल जाता है. पत्र मिलेगा तब न पढ़ेंगे. मीडिया को पत्र देने से नहीं चलेगा. 

तेजस्वी यादव ने तंज पर किया पलटवार

इधर, मुख्यमंत्री के वार पर तेजस्वी ने पलटवार किया और सीएम समेत सीएम सचिवालय पर भी हमला बोला. तेजस्वी ने ट्वीट कर लिखा, “लगता है मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि संपूर्ण मुख्यमंत्री सचिवालय भी थक चुका है, जो नेता विरोधी दल के पत्र को भी अग्रेतर कार्रवाई के लिए सीएम को प्रेषित नहीं करता. दोपहर 12:15 बजे मुख्यमंत्री सचिवालय में पत्र प्राप्ति की रिसीविंग सबके साथ साझा कर रहा हूं. पहले अपनी व्यवस्था को सुधारिए.”

यह भी पढ़ें- 

Bihar News: लोग हवाई यात्रा कर सकें इसलिए बनवा लेते थे फर्जी RT-PCR रिपोर्ट, पटना के इस लैब पर FIR

Exclusive: तेजस्वी यादव के लिए बिहार में खतरा बनेंगे कन्हैया कुमार? कांग्रेस में एंट्री ने RJD को किया असहज!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button