States

प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता की हत्या के आरोप में 6 पुलिसकर्मियों पर दर्ज हुआ मामला


<p style="text-align: justify;">कानपुर के प्रापर्टी डीलर की होटल में मौत के मामले में छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. वहीं सपा के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने कैंडिल जलाकर मनीष को श्रद्धां&zwj;जलि दी. पूर्व में अनुमति लेने और धारा 144 को देखते हुए पुलिस-प्रशासन ने उन्&zwj;हें कैंडिल मार्च निकालने से रोक दिया. इस अवसर पर सपा पदाधिकारियों ने इस मामले की सीबीआई जांच कराने के साथ दोषियों की गिरफ्तारी की मांग की. इसके साथ ही मृतक की पत्&zwj;नी को नौकरी और एक करोड़ रुपए का मुआवजा भी देने की मांग की.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>SP ने दी प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्&zwj;ता को श्रद्धांजलि</strong></p>
<p style="text-align: justify;">गोरखपुर के समाजवादी पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता बुधवार की शाम 5 बजे टाउनहाल स्थित&zwj; नगर निगम परिसर रानी लक्ष्&zwj;मी बाई पार्क में कानपुर के प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्&zwj;ता को श्रद्धांजलि देने के लिए जुटे. प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों और भारी फोर्स के बीच सपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने कैंडिल जलाकर दिवंगत प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्&zwj;ता को श्रद्धांजलि दी. हालांकि कैंडिल मार्च निकालने की अनुमति नहीं होने और धारा 144 लागू होने की वजह से उन्&zwj;हें रोक दिया गया. वहीं पर सपा के निवर्तमान महानगर अध्&zwj;यक्ष जियाउल इस्&zwj;लाम ने सिटी मजिस्&zwj;ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्&zwj;तव को ज्ञापन सौंपा.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>SP ने की एक करोड़ मुआवजे और CBI जांच की मांग</strong></p>
<p style="text-align: justify;">इस अवसर पर सपा के निवर्तमान महानगर अध्&zwj;यक्ष जियाउल इस्&zwj;लाम ने कहा कि परसों रात में कानपुर के प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्&zwj;ता की श्रद्धांजलि सभा करने जा रही थी. लेकिन, जिला प्रशासन को ये भी बर्दाश्&zwj;त नहीं हुआ कि वे लोग मनीष को श्रद्धासुमन अर्पित कर पाएं. मनीष गुप्&zwj;ता को श्रद्धांजलि देने के लिए मना कर दिया गया. उन्&zwj;होंने कहा कि इस मामले की सीबीआई जांच कराई जाए, तभी दूध का दूध और पानी का पानी हो पाएगा. सरकार से एक करोड़ रुपए मुआवजा देने के साथ प&zwj;त्&zwj;नी मी&zwj;नाक्षी को नौकरी देने के साथ दोषी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए. उन्&zwj;होंने कहा कि शांति के प्रतीक महात्&zwj;मा गांधी की प्रतिमा के नीचे उन लोगों ने श्रद्धांजलि देनी चाही, लेकिन उन्&zwj;हें रोक दिया गया.&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>गांधी प्रतिमा पर कैंडिल जलाकर दी श्रद्धां&zwj;जलि</strong></p>
<p style="text-align: justify;">इस बीच सपा के पूर्व प्रदेश प्रवक्&zwj;ता कीर्ति निधि पाण्&zwj;डेय को पुलिस के आलाधिकारियों ने नगर निगम स्थित रानी लक्ष्&zwj;मी बाई पार्क स्&zwj;थल तक जाने से रोक दिया. इसके बाद वे कार्यकर्ताओं के साथ गांधी प्रतिमा पर पहुंचे और वहां पर कैंडिल जलाकर उन्&zwj;होंने मृत प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्&zwj;ता को श्रद्धां&zwj;जलि अर्पित की. इस अवसर पर उन्&zwj;होंने कहा कि पुलिस प्रशासन की पिटाई से जिस तरह से मनीष की मौत हो गई. सपा कार्यकर्ता श्रद्धांजलि सभा के साथ कैंडिल मार्च निकालना चाहते थे. लेकिन गोरखपुर जिला प्रशासन की हिटलरशाही नीति के नाते कुछ कार्यकर्ता ही गांधी प्रतिमा तक पहुंच पाएं हैं. सपा पीडि़ता के साथ न्&zwj;याय दिलाने तक खड़ी है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>धारा 144 के कारण श्रद्धां&zwj;जलि देने से रोका गयाः सिटी मजिस्&zwj;ट्रेट</strong></p>
<p style="text-align: justify;">र्की&zwj;ति निधि पाण्&zwj;डेय ने कहा कि इसके पहले भी इन्&zwj;द्रमणि तिवारी व्&zwj;यापारी की हत्&zwj;या हुई थी. आईपीएस मणिलाल पाटीदार आज भी फरार है. वे कहते हैं कि व्&zwj;यापारियों, ब्राह्मणों के साथ समाज के तमाम तबके के लोगों को इस सरकार में उत्&zwj;पीड़न हो रहा है. उन्&zwj;होंने कहा कि लखनऊ में पुलिस गोली मारकर एक ब्राह्मण नौजवान की हत्&zwj;या कर देती है, तो उसके परिवार को 50 लाख रुपए मुआवजा और सरकारी नौकरी दिया जाता है. एक व्&zwj;यापारी की पुलिस द्वारा हत्&zwj;या की जाती है, तो महज 10 लाख रुपए देकर मामले को खत्&zwj;म किया जा रहा है. सपा पीडि़ता को एक करोड़ रुपए मदद, सरकारी नौकरी, सीबीआई जांच और परिवार के साथ गवाह के सुरक्षा की मांग करती है.</p>
<p style="text-align: justify;">गोरखपुर के सिटी मजिस्&zwj;ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्&zwj;तव ने बताया कि कानपुर के व्&zwj;यापारी की जो मौत हुई है, उसे लेकर सपा के कार्यकर्ता कैंडिल मार्च निकालना चाहते थे. लेकिन, अनुमति नहीं होने की वजह से उन्&zwj;हें मार्च निकालने से रोका गया. धारा 144 लगी होने की वजह से उन लोगों से बात की गई और ज्ञापन लेकर उन्&zwj;होंने वहीं पर श्रद्धांजलि दे दी है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>इसे भी पढ़ेंः</strong><br /><a href="https://www.abplive.com/news/india/punjab-congress-crisis-top-10-updates-captain-amarinder-singh-meets-amit-shah-in-new-delhi-1975301"><strong>Amarinder Singh Meets Amit Shah: अमित शाह से मिले कैप्टन अमरिंदर सिंह, बताया किन मुद्दों पर हुई बात?</strong></a></p>
<p style="text-align: justify;"><a href="https://www.abplive.com/news/india/chhattisgarh-congress-crisis-still-going-on-mlas-reaches-delhi-ann-1975292"><strong>Chhattisgarh Congress Crisis: अब छत्तीसगढ़ कांग्रेस में भी शुरू हुआ विवाद, दिल्ली पहुंचने लगे विधायक</strong></a><br /><br /></p>

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button