States

बीजेपी अनुसूचित जनजाति की कार्यसमिति के समापन सत्र में पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह

UP Politics: यूपी के कुशीनगर में आयोजित भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति की दो दिवसीय बैठक संपन्न हुआ. समापन सत्र में पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने विधानसभा चुनाव को लेकर कार्यकर्ताओं में हुंकार भरी. उन्होंने एक तरफ भारत और भारतीय संस्कृति में अनुसूचित जनजाति को महत्वपूर्ण बताया तो वहीं दूसरी तरफ पिछली सरकारों में इनकी उपेक्षा पर भी सवाल उठाए.

अनुसूचित जनजाति मोर्चा के कार्यकर्त्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि ‘आदिवासी, वनवासी, गिरवासी ये समाज संस्कृति और प्रकृति के रक्षक, भारत और भारतीयता की पहचान हैं. भगवान श्रीराम ने आपके साथ समय बिताया और आपकी बदौलत विजय प्राप्त किया और राजा से मर्यादा पुरुषोत्तम राम बने हैं तो ये सब आपकी बदौलत.’

कार्यक्रम में पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह

उन्होंने कहा कि ‘पूर्ववर्ती सरकार में अनुसूचित जनजाति के लोगों का समाज में जगह-जगह अपमान, तिरस्कार और इनकी विविधता को तार-तार करने का काम किया गया. पूर्ववर्ती सरकारों ने इनकी अनदेखी किया, जिसके चलते इनका विकास नहीं हो सका. यहां तक की कुछ षड्यंत्रकारी ताकतों ने धर्मांतरण करा कर इन को पथभ्रष्ट करने का भी काम किया लेकिन बीजेपी की सरकारों में इनको उचित सम्मान मिला है.’

कार्यकर्ताओं ने किया प्रदेश अध्यक्ष का जोरदार स्वागत

इस कार्यसमिति की बैठक को लेकर उन्होंने कहा कि ऐसे कार्य समितियों के माध्यम से कार्यकर्ताओं का निर्माण होता है जो राज्य और देश के लिए काम करते हैं. इसके पूर्व कुशीनगर में जगह जगह कार्यकर्त्ताओं ने फूल मालाओं से साथ प्रदेश अध्यक्ष का जोरदार स्वागत किया. कुशीनगर स्थित एक निजी होटल में दो दिनों तक चलने वाले बीजेपी अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति में पहले दिन प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल और प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह ने भी कार्यकर्ताओं में हुंकार भरी थी.

इसे भी पढ़ेंः
Kanhaiya Kumar Joins Congress: कन्हैया कुमार ने आखिर क्यों ज्वाइन की कांग्रेस, खुद बताई इसके पीछे की वजह?

West Bengal Violence: ममता सरकार ने राज्य में हुई हिंसा की सीबीआई जांच का किया विरोध, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस



Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button