States

Viral Fever in Bihar: गोपालगंज में 15 नए मरीज पहुंचे सदर अस्पताल, एक और बच्ची की मौत

गोपालगंज: बिहार के गोपालगंज जिले में बुधवार को वायरल फीवर (Viral Fever) से एक और बच्ची की मौत हो गई. वहीं, 15 बीमार बच्चों का सदर अस्पताल में इलाज कराया जा रहा है. मृतक बच्ची उचकागांव के मनबोध परसौनी गांव निवासी साहेब प्रसाद की तीन वर्षीय पुत्री शारदा कुमारी थी. बच्ची की मौत के साथ एक सितंबर से अब तक मृत बच्चों की संख्या 10 तक पहुंच गई है. इधर, बुधवार को बुखार से पीड़ित बच्चों के सदर अस्पताल में पहुंचते ही डॉक्टरों की टीम इलाज में जुट गई. इन बच्चों में अधिकतर डायरिया, बुखार व टाइफाइड की शिकायत से ग्रसित हैं.

जागरूकता अभियान भी चला रहे स्वास्थ्य कर्मी

ओपीडी और इमरजेंसी में पहुंचे बच्चों की तत्काल इलाज शुरू की गई. इनमें से सात बच्चों को दोपहर तक छुट्टी दे दी गई, जबकि अन्य बच्चों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है. इन बच्चों की उम्र चार से आठ साल के बीच की है. हालांकि, इन बच्चों में जेई और एईएस के लक्षण नहीं मिली है. सीएस डॉ.योगेंद्र महतो ने बताया कि वायरल बुखार के कहर के बाद अलर्ट जारी किया गया है. तापमान बढ़ने के कारण बच्चे वायरल बुखार और डिहाइड्रेशन के शिकार हो रहे हैं. ऐसे मौसम में बच्चों को बचाने की सलाह दी गई है. डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मियों की टीम जागरूकता अभियान भी चला रही है. 

बुखार से परेशान हैं बच्चे

सदर अस्पताल में पहुंचे मांझा के कोइनी निवासी सेहरा खातून के पिता गुल मोहम्मद ने बताया कि तीन दिन से बेटी को बुखार था. हालत बिगड़ने पर सदर अस्पताल में लाया गया. वहीं, तकिया बनकट निवासी अशफाक अली के पुत्र शाहिद अली को दो दिन से बुखार था, जबकि जगीरी टोला निवासी गोपेश्वर यादव के पुत्र बिंदु यादव को पांच दिन से बुखार था. स्थिति बिगड़ने पर इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया.  

इस संबंध में गोपालगंज के सीएस डॉ. योगेंद्र महतो ने कहा कि स्वास्थ्य केंद्रों पर वायरल बुखार के दवाओं की किट उपलब्ध करा दी गयी है. सभी केंद्रों पर दो-दो बेड का स्पेशल वार्ड बनाया गया है. लोगों से बच्चों को तेज धूप से बचाने की सलाह दी जा रही है.  

यह भी पढ़ें –

बिहारः बैंक की गलती से खाते में आए 5.5 लाख, शख्स ने कहा- अब वापस क्यों? PM मोदी ने मुझे पहली किस्त दी

Bihar News: रेलवे ट्रैक पर ‘हीरो’ बनकर बाइक दौड़ा रहे थे बक्सर के दो युवक, पीछे से पहुंच गई ट्रेन, पड़े लेने के देने

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button