States

रघुवंश प्रसाद की पुण्यतिथि पर भड़के तेजस्वी, पूछा- जब अरुण जेटली की मूर्ति लग सकती है, तब…

मुजफ्फरपुर: पूर्व केंद्रीय मंत्री और आरजेडी के कद्दावर नेता रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh Prasad Singh) की आज पहली पुण्यतिथि है. पिछले साल 13 सितंबर को ही लंबी समय तक बीमारी से जूझने के बाद उनका निधन हो गया था. उनके निधन के बाद बिहार के सियासी गलियारों में शोक की लहर दौड़ गई थी. ऐसे में उनकी पहली पुण्यतिथि पर राज्य भर में जगह-जगह श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया है. इसी क्रम में बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में आयोजित एक कार्यक्रम में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) समेत अन्य नेता शामिल हुए.

तेजस्वी यादव पूछे सवाल 

श्रद्धांजलि सभा में शिरकत करने पहुंचे तेजस्वी यादव ने कहा कि जब बिहार में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली (Arun Jaitley) की मूर्ति लग सकती है, तो फिर यहां रघुवंश प्रसाद (Raghuvansh Prasad) और रामविलास पासवान (Ramvilas Paswan) की मूर्ति क्यों नहीं लग रही है. मालूम हो कि तेजस्वी यादव लगातार बिहार के दोनों नेताओं की मूर्ति राजधानी पटना में लगाने की मांग कर रहे हैं. साथ ही दिवंगत नेताओं की पुण्यतिथि और जयंती को राजकीय कार्यक्रम घोषित करने की मांग उन्होंने रखी है.

अश्विनी चौबे ने गाया भजन 

बता दें कि जिले के पुलिस लाइन चौक स्थित विवाह भवन में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री और बीजेपी (BJP) नेता अश्विनी चौबे (Ashwini Chaubey) भी शामिल होने पहुंचे थे. कार्यक्रम में पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चैबे ने भजन गाकर रघुवंश प्रसाद को श्रद्धांजलि दी. वहीं, तेजस्वी यादव का नाम लिए बगैर कहा कि यह मंच इस तरह की बातों को उठाने के लिए नहीं है. बता दें कि कार्यक्रम में अश्विनी चौबे, प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव समेत अब्दुल बारी सिद्दकी (Abdul Bari Siddique), श्याम रजक (Shyam Rajak) समेत जिले के सभी दल के विधायक और राजनेता शामिल हुए थे. इस दौरान नेताओं ने रघुवंश प्रसाद की विचारधारा और उनकी उपलब्धियों की चर्चा की.

यह भी पढ़ें –

Raghuvansh Prasad Singh: RJD के कद्दावर नेता को याद कर भावुक हुए लालू यादव, ट्वीट कर लिखी यह बात

Bihar Politics: रामविलास की बरसी पर नहीं पहुंचे CM नीतीश कुमार, तेजस्वी ने कहा- इससे अच्छा संदेश नहीं गया

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button