States

UP Election 2022: मायावती ने उत्तर प्रदेश में किया मिशन 2022 का आगाज, जानें क्या कुछ कहा?

UP Election 2022: बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को लखनऊ में मिशन 2022 का आगाज किया. मंगलवार को लखनऊ में बीएसपी के प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी के समापन का मौके पर इसका आगाज किया गया. इस मौके पर मायावती ने पार्टी की आगामी रणनीति का भी एलान किया.

मायावती ने साफ तौर पर कहा कि जब बीएसपी सत्ता में आएगी तो ब्राह्मणों पर जो मुकदमे दर्ज हुए हैं, वह वापस लिए जाएंगे और ऐसे अफसरों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी. साथ ही साथ मायावती ने यह भी कहा कि अब बीएसपी जब भी सत्ता में आएगी तो पार्टी कोई स्मारक पार्क या स्थल का निर्माण नहीं करेगी बल्कि यूपी के विकास को बहुत तेजी से आगे बढ़ाएगी.

लखनऊ में बीएसपी के माल एवेन्यू स्थित पार्टी कार्यालय में मंगलवार सुबह से ही कार्यकर्ताओं की भीड़ उमड़ी थी. प्रदेश के अलग-अलग जिलों से प्रबुद्ध समाज से जुड़े लोग पार्टी कार्यालय पहुंचे थे क्योंकि 23 जुलाई से शुरू हुए प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी का समापन मंगलवार को हो रहा था.

इस मौके पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने प्रबुद्धजनों के साथ संवाद करते हुए कहा कि प्रबुद्व समाज ने बीजेपी के बहकावे में आकर उसकी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाकर बहुत बड़ी गलती की है. उन्होंने कहा कि 2022 में बीएसपी की सरकार बनने पर वह ब्राह्मण समाज को सुरक्षा और सम्मान भी देंगे और उनपर जो मामले दर्ज किये गये हैं उसकी भी जांच कराएंगे और दोषी अफसरों पर कार्रवाई भी करेंगे.

उनका कहना है कि बीजेपी ने चुनाव के पहले वोट लेने के लिए किसानों की आमदनी दोगुना करने का वादा किया था, वो तो नहीं किया लेकिन उनकी जमीन लेने के लिये 3 काले कानून लागू किए. मायावती ने एलान किया कि बीएसपी की सरकार बनने पर यहां 3 काले कृषि कानून लागू नहीं होने दिया जाएगा. मायावती ने मोहन भागवत के बयान का हवाला देते हुए कहा की वो कहते हैं कि हिन्दू और मुसलमानों के पूर्वज एक है. मैं उनसे पूछती हूं कि अगर एक हैं तो बीजेपी मुसलमानों के साथ भेदभाव क्यों करती है?

मिशन 2022 का आगाज करते हुए मायावती ने पार्टी के दूसरे चरण की भी घोषणा की. मायावती ने कहा कि 9 अक्टूबर को कांशीराम जी की पुण्यतिथि है, इस बार आप लोग पूरे प्रदेश से लखनऊ आकर कांशीराम जी को श्रद्धासुमन अर्पित करेंगे. मायावती ने आज पार्टी के सेक्टर अध्यक्षों और जिला अध्यक्षों की बैठक भी बुलाई है. जिसमें आगामी रणनीति पर चर्चा होगी.

मायावती को भी शायद इस बात का अंदाजा है कि 2007 से 2012 तक कि उनकी सरकार ने जो स्मारक पार्क बनाएं उसका फायदा चुनाव में उन्हें नहीं मिला, इसीलिए मायावती ने एक बार फिर ऐलान किया कि अब जब उनकी सरकार पांचवी बार बनेगी तो स्मारक मूर्तियां पार्क आदि नहीं बनाएंगे क्योंकि वो तो उन्होंने थोक के भाव लगवा दी है, अब केवल यूपी को आगे ले जाने के लिये ताकत लगाएंगे, जिससे पूरी दुनिया मे ये संदेश जाए कि अगर सरकार हो तो बीएसपी की तरह हो.

मायावती ने साफ तौर पर कार्यकर्ताओं को ये संदेश दे दिया है कि अब चुनाव का वक़्त बेहद करीब है ऐसे में सभी को जुट जाना है और पार्टी के पक्ष में कुछ इस तरह का माहौल बनाना है कि 2007 की तरह ही 2022 में बीएसपी सत्ता पर काबिज हो सके.

इसे भी पढ़ेंः

UP Politics: बीजेपी सांसद का बड़ा बयान, बोले- नहीं करता मुसलमानों का विरोध…लेकिन, करना पड़ेगा ये काम 

UP Election 2022: यूपी चुनाव को लेकर एक्शन में बीजेपी, मुस्लिम वोटर्स और प्रवासियों के लिए बनाई खास रणनीति

यह भी देखेंः 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button