States

AIMIM ने यूपी चुनाव में ठोकी ताल, ओवैसी बोले- मुसलमानों को नहीं मिली है हिस्सेदारी 

Asaduddin Owaisi Ayodhya Visit: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में आगामी चुनाव के मद्देनजर AIMIM ने भी यूपी में अपना बिगुल फूंक दिया है. AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) मंगलवार को अपने तीन दिवसीय दौरे पर यूपी पहुंचे. लखनऊ (Lucknow) में प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद ओवैसी ने अयोध्या (Ayodhya) से कार्यक्रमों की शुरुआत की. अयोध्या की रुदौली विधानसभा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने सत्ताधारी दल भाजपा (BJP) के साथ ही सपा, बसपा और कांग्रेस (Congress) तीनों पर निशाना साधा. ओवैसी ने मुसलमानों से एकजुट होकर पार्टी के साथ रहने को कहा. 

AIMIM पूरी ताकत से चुनाव लड़ेगी
असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि 2022 में जो चुनाव होंगे उसमें रुदौली से AIMIM का उम्मीदवार जरूर जीतेगा. आगामी चुनाव में AIMIM पूरी ताकत और तैयारी से चुनाव लड़ेगी. ये वो मजलिस नहीं जो 2017 में थी. इन 5 साल में मजलिस का पैगाम घर-घर तक पहुंच चुका है. मजलिस पहले से कहीं ज़्यादा मजबूत है. मजलिस की कोशिश है कि मुस्लिमों की सियासी लीडरशिप बने. यहां हर बिरादरी की सियासी ताकत है. अगर किसी की सियासी आवाज नहीं, किसी के आंसुओं की आवज नहीं तो वो यूपी में मुसलमान की नहीं है. ओवैसी ने कहा कि जम्हूरियत तब मजबूत होगी जब सबको हिस्सेदारी मिलेगी. साफ तौर पर यूपी के मुसलमान को हिस्सेदारी नहीं मिली है. 

मौकापरस्ती को हराना है
ओवैसी ने कहा कि कभी आपने कांग्रेस को मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री बनाया तो कभी सपा, बसपा का मुख्यमंत्री बनाया लेकिन आज यूपी में आपके आंसुओं की ताकत नहीं है. यूपी में अगर कोई सबसे कम पढ़ा लिखा है तो वो मुसलमान है. यूपी की जेलों में दलित भाइयों साथ सबसे अधिक मुसलमान हैं. असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मौकापरस्ती को हराना है लेकिन जीतकर. भाजपा को शिकस्त देनी है खुद जीतकर. लोग कहते हैं मजलिस काटने आती है. मजलिस किसी को काटने नहीं, जोड़ने आती है. ओवैसी ने इसके बाद रुदौली के विकास के मुद्दे को उठाया. उन्होंने कहा कि रुदौली का ओवरब्रिज 5 साल से नहीं बना. सपा से पूछो तो कहेंगे ओवैसी यहां से गुजरा था इसलिए नहीं बना. बाबा जो मुख्यमंत्री हैं उन्हें भी नहीं पता क्यों नहीं बना. बाबा को बोलेंगे ओवरब्रिज तो कहेंगे नाम बदल दो इसका. 

अफगानिस्तान की बेटियों की फिक्र हैं लेकिन रुदौली की नहीं
AIMIM चीफ ने कहा कि कम्युनिटी सेंटर बदहाल है, पाइपलाइन का काम नहीं हुआ है. बाबा से एक काम कहो तो नाम बदल देंगे. ओवैसी ने कहा फिरोजाबाद में 50 बच्चे डेंगू से मरे. क्या नाम बदलने से बचेंगे. यूपी में 2019-20 में केंद्र ने बाबा को 116 करोड़ दिए, माइनॉरिटी क्षेत्रो में काम के लिए जिसमें से बाबा की सरकार ने सिर्फ 16 करोड़ खर्च किए, फिर कहते हैं सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास. रुदौली में सीनियर सेकंडरी स्कूल नहीं है, फिर कहेंगे मुसलमान बच्चों को पढ़ाना नहीं चाहता. अरे हम बेटियों को पढ़ाना, ताकतवर बनान चाहते हैं. इन्हें अफगानिस्तान की बेटियों की फिक्र हैं लेकिन रुदौली की नहीं.
 
फैजाबाद के नाम से क्यों तकलीफ हो रही है
असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि रुदौली में योगी सरकार बनने के बाद कितने अस्पताल खुले? अयोध्या में 5 साल से कम उम्र के बच्चे 50 फीसद कमजोर हैं. 45 फीसद बच्चे अंडरवेट हैं. जब यहां आ रहे थे तो 2 दिन से मीडियाकर्मी बोलने लगे ओवैसी अयोध्या नहीं फैजाबाद जा रहे हैं. अरे अयोध्या भी भारत में और फैजाबाद भी भारत में है. कश्मीर भी गए और अयोध्या भी जाएंगे. फैजाबाद के नाम से क्यों पेट में तकलीफ हो रही है. क्या फैजाबाद की जेल में अशफाकउल्ला को फांसी नहीं दी गई. कोई रास्ता आसान नहीं, जद्दोजहद करना पड़ेगा. 
ओवैसी ने सपा पर निशाना साधते हुए कहा कि अखिलेश डराने की बात करते हैं, मैं उम्मीद की बात करता हूं. रुदौली से यादवों ने सपा का साथ नहीं दिया. अपने वोट का सही इस्तेमाल करिए. ये सपा, बसपा, कांग्रेस या भाजपा सब यही डरते हैं कि हिन्दुस्तन में मुसलमानों की लीडरशिप ना बने. मैं आपको यहां लीडर बनाने आया हूं. डरने, घबराने की जरूरत नहीं है. इसी अयोध्या में 6 दिसंबर को क्या हुआ सबने देखा. लेकिन, ये कौम इन लोगों से डरेगी नहीं.

भाजपा को हराने आए हैं
AIMIM चीफ ने कहा कि अतीक अहमद आज AIMIM में शामिल हुए. सवाल पूछने वाले जान लें कि 37 फीसदी भाजपा विधायक पर क्रिमिनल केस हैं. जिसका नाम अतीक, मुख्तार होगा वो बाहुबली, माफिया होगा. लेकिन, जिसका नाम प्रज्ञा, अजय, संगीत, सुरेश होगा वो लोकप्रिय नेता होगा. यूपी के मुख्यमंत्री ने अपने मुकदमे वापस ले लिए. आपको लोग भाजपा, मोदी, योगी के नाम पर डराने की कोशिश करेंगे. हम यहां भाजपा को हराने आए हैं. योगी सरकार में गंगा में लाशें बाह रही थी, ऑक्सीजन नहीं थी, दवा नहीं थी, जलाने को लकड़ी, दफनाने को जमीन नहीं थी. हम किसी मजहब के खिलाफ कभी नहीं बोलेंगे. सपा, बसपा से बात बराबर हिस्सेदारी पर होगी. अब चुनाव आ रहे तो ये तालिबान-तालिबान करेंगे. अरे अगर तालिबान आतंकी है तो बैन करो. 

दरगाह पर चादर चढ़ाई और जियारत भी की
जनसभा के बाद ओवैसी ने रुदौली में ही दरगाह पर जाकर चादर चढ़ाई और जियारत की. ओवैसी को इसके बाद विधानसभा प्रभारी के कार्यालय का उद्घाटन भी करना था. लेकिन, जनसभा के दौरान भीड़भाड़ में हाथ पर चोट लगने की वजह से इस कार्यक्रम को निरस्त कर दिया गया. ओवैसी दरगाह से सीधे लखनऊ रवाना हुए. हालांकि, बीच में कुछ देर हाईवे पर पार्टी के प्रदेश महासचिव गुलाम साबिर के घर पर रुके और खाना खाया व नमाज भी पढ़ी. 

ये भी पढ़ें: 

UP Politics: बीजेपी सांसद का बड़ा बयान, बोले- नहीं करता मुसलमानों का विरोध…लेकिन, करना पड़ेगा ये काम 

Uttarakhand: विधानसभा चुनाव की दहलीज पर खड़ी बीजेपी में शह-मात का खेल, जानें- क्या है पूरा मामला

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button