States

यूपी में खतरनाक होता जा रहा है डेंगू, राजधानी लखनऊ समेत कई शहरों में तेजी से बढ़े मामले

Dengue and Viral in Uttar Pradesh: प्रदेश में डेंगू, वायरल (Dengue and Viral) व अन्य बुखार के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. प्रदेश में अब तक डेंगू के 409 मामलों (409 Cases in UP) की पुष्टि हो चुकी है. वहीं 66 मामले संदिग्ध हैं, जिनकी रिपोर्ट आनी बाकी है. इसके अलावा 22 मामले ऐसे भी हैं जो अब तक ट्रेस नहीं हो पाए, यानी बुखार की वजह क्लियर नहीं है. इनकी भी जांच चल रही है. अब तक सर्वाधिक 107 डेंगू के मामले मथुरा (Mathura) में सामने आए हैं. इसी तरह वाराणसी (Varanasi) में डेंगू के 69 मामले आये जिसमे 66 की पुष्टि हो चुकी है. फिरोजाबाद (Firozabad) में डेंगू के 49 मामले आ चुके हैं. कानपुर नगर (Kanpur) में 21 मामलों में 13 की पुष्टि हो चुकी है.

सभी जिलों में नोडल अफसर तैनात 

स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि, जिस तरह कोरोना मैनेजमेंट किया वैसे ही डेंगू, मलेरिया और अन्य मौसमी बीमारियों पर नियंत्रण किया जा रहा है. निजी अस्पतालों को भी इलाज के लिए चिन्हित किया है. सभी जिलों में नोडल अफसर तैनात किए हैं. साफ सफाई, इलाज हर मोर्चे पर काम हो रहा है. फिरोजाबाद में हालात काफी बेहतर हुए हैं. सभी मेडिकल कॉलेज, अस्पतालों को जरूरी निर्देश भेज दिए गए हैं. विपक्षियों की तरफ से डेंगू के मामलों को लेकर निशाना साधने पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, उनका काम ही यही है. लेकिन हमें अपना काम करना है. हालात नियंत्रण में रहे और लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मिलें, वो सुरक्षित रहे इसके लिए काम कर रहे हैं.

राजधानी लखनऊ में 84 मामले

बात लखनऊ की करें तो अब तक डेंगू के 84 मामले आये हैं. इसमे से 71 मामले कन्फर्म हो चुके हैं. जबकि 13 की पुष्टि बाकी है. लखनऊ में हालात को काबू करने के लिए लगातार अफसर फील्ड पर हैं. आज भी डीएम अभिषेक प्रकाश ने इसे लेकर नगर आयुक्त, सीएमओ, नगर स्वास्थ्य अधिकारी समेत अन्य अधिकारियों साथ बैठक की. सीएमओ डॉ. मनोज अग्रवाल ने बताया कि, सभी अस्पतालों में बेड रिजर्व किये जा रहे हैं. शहर को 40 जोन में बाँटकर नोडल अधिकारी तैनात किये हैं. जिनके नीचे 80 रैपिड रिस्पांस टीम बनाई हैं. प्राइवेट हॉस्पिटल व नर्सिंग होम भी चिन्हित किये हैं. इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम से भी काम शुरू कर दिया है.

लखनऊ में 11 हॉटस्पॉट चिन्हित किये गये

नगर आयुक्त अजय द्विवेदी ने बताया कि, फैजुल्लागंज समेत 11 हॉटस्पॉट चिन्हित किये हैं. सभी जगह एन्टी लार्वा छिड़काव, फॉगिंग, खाली प्लाट को साफ करवाना ये कार्रवाई जारी है. दिन में दो बार कूड़ा उठवाया जाएगा. इसके निर्देश भी दिए गए हैं. फैजुल्लागंज को लेकर नगर आयुक्त ने कहा कि, इस इलाके की टोपोग्राफी ऐसी है जहां पानी रुकता है, यहां अनियोजित बनावट से समस्या है. यहां ड्रेनेज, सीवरेज का प्रोजेक्ट शासन को भेजा है. अगर अमृत योजना में लिया तो परमानेंट समाधान निकल आएगा.

मरीजों की संख्या बढ़ी

सिविल अस्पताल समेत सभी जगह बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ी है. सिविल अस्पताल के सीएमएस व कार्यवाहक निदेशक डॉ. एसके नंदा ने बताया कि, हर साल अमूमन डेंगू के मामले अक्टूबर- नवंबर में आते थे. लेकिन इस बार पहले ही आ गए. नसप्ताल में 17 बेड का वार्ड तैयार है जबकि मरीज बढ़ने पर 60 बेड तक तत्काल व्यवस्था की तैयारी की है. डॉ. नंदा ने बताया कि, पहले जहां एक दिन में बुखार के 70 से 80 मरीज आते थे अब 115 से 120 आ रहे हैं.

राजनीति शुरू

एक तरफ डेंगू के मामले बढ़ रहे हैं, तो दूसरी तरफ इस पर राजनीति भी शुरू हो गयी है. सपा एमएलसी सुनील सिंह ने ट्वीट में तंज किया है कि “ड़ेंगू अपना विकराल रूप दिखाने लगा है, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सैकड़ों मासूमों की जान लेने के बाद अब पूर्वी उत्तर प्रदेश को भी अपनी गिरफ्त में ले रहा है. राजधानी के अस्पताल मरीज़ों से भरने लगे हैं, लेकिन भटकसुन्न योगी सरकार इस आपदा को भी ‘अवसर’ बनने की तलाश में हैं.” सपा प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने कहा कि प्रदेश में डेंगू से बच्चों की मौत हो रही और सरकार आंकड़े छुपाने में लगी है. आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने कहा कि, डेंगू से प्रदेश में हो रही बच्चों की मौत दुःखद है. उन्होंने कहा कि योगी सरकार अस्‍पतालों में बेड, दवा और जांच के पर्याप्‍त इंतजाम नहीं कर पा रही. फिरोजाबाद के मामले पर कहा कि सरकारी अस्पतालों में डॉक्टर ही नहीं, तो सीएमओ हटाने से क्या होगा.

ये भी पढ़ें.

UP Election 2022: ओवैसी के अयोध्या दौरे पर कांग्रेस ने कहा- बीजेपी के साथ जवाबी कव्वाली चल रही है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button