States

कासगंज पुलिस को मिली बड़ी सफलता, तीन साल पुराने हत्याकांड में 6 लोगों को किया गिरफ्तार

Kasganj News: कासगंज पुलिस ने साल 2018 में हुए अपराध की बड़ी घटना का खुलासा किया है. पुलिस अधीक्षक रोहन प्रमोद बोत्रे ने अपराध की बड़ी घटना की गुत्थी सुलझा ली है. साल 2018 में नोएडा में हुई तीन हत्याएं और कासगंज के कोतवाली क्षेत्र के ढोलना में हुई एक हत्या का खुलासा कर दिया है. पुलिस ने इस संबंध में छः आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिसमें मुख्य आरोपी राकेश और एक महिला कॉन्स्टेबल शामिल है. जो राकेश की प्रेमिका है. आरोपियों की निशानदेही पर कासगंज पुलिस ने मकान के बेसमेंट में दबे राकेश की पत्नी और उसके दोनों बच्चों के कंकालों समेत कत्ल में इस्तेमाल हथियार भी बरामद कर लिया है और पुलिस ने चारों आरोपियों को जेल भेज दिया है.

दरअसल घटना 26 अप्रैल 2018 की है जब मारूपुर के जंगल में रेलवे लाइन के पास एक अज्ञात व्यक्ति का क्षत विक्षत शव बरामद हुआ था और अज्ञात शव की पहचान कपड़ों और शारीरिक बनावट से अलीगढ़ जनपद के थाना गंगीरी स्थित गांव नौगवां के रहने वाले राजीव ने अपने भाई राकेश के रूप में की थी. राजीव ने अपने भाई के ससुरालीजन पर हत्या कर शव को फेंकने का आरोप लगाते हुए थाना ढोलना में मामला पंजीकृत कराया गया था. मृतक की पहचान स्पष्ट न होने के कारण डीएनए का सेंपल परीक्षण हेतु विधि विज्ञान प्रयोगशाला आगरा भेजा गया था. विधि विज्ञान प्रयोगशाला आगरा द्वारा अपनी रिपोर्ट में उक्त सैम्पल मृतक राकेश का न होकर किसी अन्य का होना पाया गया.

कप्तान रोहन प्रमोद बोत्रे ने पुराने प्रकरणों और घटनाओं का संज्ञान लेते हुए लंबित हत्या की घटनाओं के खुलासे के निर्देश दिए. डीएनए की रिपोर्ट का मृतकों के परिजनों से मिलान ना होने पर कप्तान रोहन ने एसओजी और सर्विलान्स टीम को गठित किया और जल्द मामले के खुलासे के निर्देश दिए थे और लगातार वह इस केस की मॉनिटरिंग कर रहे थे. 

कासगंज पुलिस को सर्विलांस टीम और अन्य साक्ष्यों के आधार पर पता चला कि जिस व्यक्ति की हत्या का मामला ढोलना कोतवाली पर दर्ज कराया गया है. वह राकेश जिंदा है और कहीं छिपकर रह रहा है. इस पर कासगंज पुलिस कप्तान ने लोकेशन और जानकारी के आधार पर कथित मृतक राकेश को पुलिस ने 1 अगस्त को गिरफ्तार कर लिया और तब जाकर पूरा राज खुला.

राकेश ने पूछताछ में बताया कि उसका अपने गांव नोगमा की रूबी पुत्री तेजसिंह से प्रेम प्रसंग चल रहा था, इसी बीच अभियुक्त के परिवारीजनों ने उसकी शादी एटा जनपद की रहने वाली महिला रतनेश से कर दी और शादी के बाद राकेश के 2 बच्चे हुए. जिसमें एक पुत्री अवनी व पुत्र अर्पित थे. हत्यारोपी राकेश द्वारा नोएडा में पंच विहार कालोनी में अपने परिवार के साथ रहता था और वो नोएडा में ही एक लेबोरेट्री मे कार्य कर रहा था. 

शादी होने के बावजूद भी अभियुक्त के रूबी से प्रेम प्रसंग जारी रहा. वह अपनी पत्नी को रास्ते से हटाकर रूबी के साथ शादी करने की योजना बना रहा था. इस योजना में उसकी प्रेमिका रूबी, प्रेमिका के पिता बनवारी लाल, भाई राजीव कुमार और प्रवेश और मां इन्द्रवती का आरोपी को सहयोग मिला और आरोपी राकेश ने योजनाबद्ध तरीके से अपनी पत्नी रतनेश ओर दोनों बच्चों अवनी और अर्पित को मकान के बेसमेन्ट में बुलाकर लोहे की रॉड से उन पर प्रहार कर तीनों की हत्या करदी.

जिसके बाद उसने उनके शवों को उसी मकान के बेसमेन्ट में दफन कर ऊपर से सीमेन्ट का पक्का फर्श बनवा दिया और इसी बीच रतनेश अभियुक्त राकेश की पत्नी के बच्चों सहित गायब होने के सम्बन्ध में रतनेश के पिता मोतीलाल ने नोयडा में थाना बिसरख में धारा 364, 498 ए, 504,  506 ओर डीपी एक्ट के तहत अपनी पुत्री के पति राकेश, ससुर और अन्य परिजनों के विरूद्ध मामला दर्ज कराया था.

वहीं आरोपी राकेश ने पुलिस से बचने के लिए अपने परिवार के साथ षड्यन्त्र रचकर योजनाबद्ध तरीके से अपने ही गांव के अपने जैसे शरीर की बनावट के अपने मित्र राजेन्द्र उर्फ कलुआ को रिश्तेदारी में चलने के बहाने से मोटर साइकिल पर ले जाकर रास्ते में पहले शराब पिलाई और कासगंज जनपद के थाना ढोलना क्षेत्र के गांव मारुपुर के जंगल में रेलवे लाइन के पास गड़ासे से अपने दोस्त की हत्या कर दी और शव की पहचान छिपाने के उद्देश्य से उसके सिर, हाथों के पंजे काटकर साक्ष्य छिपाने के उद्देश्य से नष्ट कर दिये और अपने कपड़े अपने मृतक दोस्त को पहनाकर, अपना आधार कार्ड भी उसके पास फैंक दिया.

अपनी हत्या का षडयन्त्र रचते हुए अपने भाई राजीव कुमार के माध्यम से शव की पहचान राकेश यानी स्वयं के रूप में कराते हुए भाई के ही माध्यम से धाना ढोलना पर अपनी हत्या का फर्जी मामला अपने ससुर मोतीलाल और साले जितेन्द्र और रवि के खिलाफ दर्ज करा दिया. अभियुक्त राकेश द्वारा अपने को छिपाते हुए दिलीप शर्मा पुत्र सुभाष शर्मा निवासी कुक्कन पट्टी जनपद कुशीनगर नाम का आधार कार्ड बनवाया और स्वंय पानीपत हरियाणा में मकरौली नामक गाव में पहले मजदूर और बाद में राजमिस्त्री बनकर कार्य करने लगा और स्थायी रूप से वहीं पर रहने लगा.

इस दौरान भी अपनी प्रेमिका रूबी के लगातार सम्पर्क में बना रहा, जिससे मिलने के लिए ही राकेश 1 सितंबर को जनपद कासगंज से होकर गगीरी जा रहा था, इसी बीच मुखबिर की सूचना पर कासगंज पुलिस द्वारा आरोपी राकेश को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और थाना ढोलना  पुलिस और एसओजी, सर्विलांस टीम द्वारा अभियुक्त को साथ लेकर उसकी निशानदेही पर मित्र राजेन्द्र उर्फ कलुआ की हत्या में प्रयुक्त गड़ासा मारूपुर के जंगलों से बरामद किया गया और थाना बिसरख जनपद नोएडा से समन्वय स्थापित किया गया और आरोपी की पत्नी और बच्चों के शवों की बरामदगी के लिए जनपद नोएडा से एक मजिस्ट्रेट की नियुक्ति कराकर उनके समक्ष बेसमेन्ट को खुदवाकर पत्नी और बच्चो के कंकालों को और हत्या में इस्तेमाल की गई लोहे की रॉड को भी बरामद कर लिया.

वहीं पुलिस ने इस घटना में संलिप्त प्रेमिका महिला कांस्टेबल रूबी, उसके पिता बनवारी, भाई राजीव और प्रवेश और उसकी मां इन्द्रवती को भी गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने सभी आरोपियों को संगीन धाराओं में जेल भेज दिया है. खुलासे के बाद पुलिस अधीक्षक रोहन पी बोत्रे ने सराहनीय कार्य करने वाली पुलिस टीम को 25 हजार रूपये का इनाम देने की घोषणा की है.

इसे भी पढ़ेंः

KBC Winner: कौन बनेगा करोड़पति में हिमानी बुंदेला ने जीते एक करोड़ रुपए, हादसे में गंवा चुकी हैं आंखों की रोशनी

नोएडा में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक रेस्टोरेंट नहीं कर सकेंगे होम डिलीवरी, ये है वजह

यह भी देखेंः 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button