Crime

बढ़ते साइबर क्राइम के बीच दिल्ली पुलिस हर जिले में बनाएगी साइबर थाना, 1 दिसंबर से काम शुरू होने की संभावना

दिल्ली में बढ़ते साइबर क्राइम (Cyber Crime) को देखते हुए दिल्ली पुलिस राजधानी में ऐसे मामलों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए हर जिले में एक समर्पित ‘साइबर पुलिस थाना’ (Cyber Police Station) स्थापित करेगी। दिल्ली सरकार के गृह विभाग ने सभी 15 पुलिस जिलों में ऐसे थाने बनाने के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है। अधिकारियों के मुताबिक, 1 दिसंबर से इन पुलिस थानों में कामकाज शुरू होने की संभावना है।

नोटिफिकेशन में कहा गया है कि साइबर क्राइम से जुड़े मामलों की जांच और जांच के लिए प्रत्येक अधिसूचित पुलिस जिले में “साइबर पुलिस स्टेशन” का गठन करना आवश्यक माना जा रहा है।

दिल्ली के उपराज्यपाल की ओर से जारी आदेश के अनुसार, जनता को बेहतर पुलिस सहायता देने के लिए  दिल्ली के पंद्रह पुलिस जिलों- पूर्व, उत्तर-पूर्व, दक्षिण, दक्षिण-पूर्व, दक्षिण-पश्चिम, पश्चिम, बाहरी, मध्य, उत्तर, उत्तर पश्चिम, शाहदरा, रोहिणी, नई दिल्ली, द्वारका और बाहरी उत्तर में साइबर पुलिस स्टेशन बनाए जाएंगे।

इन साइबर पुलिस थानों का क्षेत्राधिकार पूरे पुलिस जिले पर होगा जिसके लिए साइबर पुलिस स्टेशन को अधिसूचित किया जा रहा है और यह नोटिफिकेशन जारी होने की तारीख से प्रभावी है। अनुसूची-ए के अनुसार, पूर्वी जिले में साइबर पुलिस थाना पांडव नगर पुलिस स्टेशन में और उत्तर-पूर्वी जिले में यह ज्योति नगर पुलिस स्टेशन में स्थित होगा।

नोटिफिकेशन में कहा गया है कि क्रमशः इसी तरह, दक्षिण जिले में इसका स्थान साकेत पुलिस स्टेशन में, दक्षिण-पूर्व में बदरपुर पुलिस स्टेशन में, दक्षिण-पश्चिम में वसंत विहार पुलिस स्टेशन में, पश्चिम में हरि नगर पुलिस स्टेशन में और बाहरी जिले के पश्चिम विहार पश्चिम पुलिस स्टेशन में होगा। वहीं, मध्य, उत्तर, उत्तर-पश्चिम, शाहदरा, रोहिणी, नई दिल्ली, द्वारका और बाहरी उत्तरी जिलों में साइबर पुलिस स्टेशन कमला मार्केट, मौरिस नगर, मुखर्जी नगर, शाहदरा, बुद्ध विहार, मंदिर मार्ग, द्वारका उत्तर और समयपुर बादली और बवाना पुलिस स्टेशन में स्थित होंगे। 

दिल्ली पुलिस की साइबर अपराधों के लिए साइबर प्रिवेंटेशन अवेयरनेस डिटेक्शन यूनिट (CyPAD) नामक एक अलग इकाई है जो स्पेशल सेल के तहत काम करती है। प्रत्येक जिले में विशिष्ट साइबर सेल भी होते हैं। अब CyPAD का नाम बदलकर इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (IFSO) कर दिया गया है। अधिकारियों ने कहा कि साइबर पुलिस स्टेशन सीधे जिला पुलिस उपायुक्त को रिपोर्ट करेगा। पुलिस थाने दिल्ली पुलिस की आईएफएसओ इकाई के सहयोग से काम करेंगे।

फरवरी में वार्षिक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दिल्ली पुलिस ने डेटा जारी किया था जिसमें दिखाया गया था कि मार्च से मई 2020 तक, जब COVID-19 के प्रकोप के कारण प्रतिबंध थे, साइबर अपराधों से संबंधित मामलों में वृद्धि हुई थी। मार्च में यह मामले लगभग 2,000 से बढ़कर मई में 4,000 से अधिक हो गए थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button