Business

सेविंग्स अकाउंट में कई बैंक दे रहे हैं अधिक ब्याज, जानें आपके फायदे की बात


<p style="text-align: justify;">सेविंग्स अकाउंट पर अभी कई बैंक शानदार ब्याज दे रहे हैं. वहीं दूसरी ओर पंजाब नेशनल बैंक ने अपने सेंविग्स अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज में कटौती कर दी है. पंजाब नेशनल बैंक में अब जमा खाता वाले ग्राहक को 2.90 प्रतिशत का ब्याज दे रहा है. इस कटौती के पहले पंजाब नेशनल बैंक 3 प्रतिशत का ब्याज अपने ग्राहकों को देता था. अगर आप इस वक्त बैंक खाता खुलवाने की सोच रहे हैं तो आज हम आपको कुछ बैंकों के बारें में बताने जा रहे हैं जहां खाता खुलवाने पर आपको अच्छा ब्याज मिल सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ये बैंक दे रहे हैं सेविंग्स अकाउंट पर इतना ब्याज</strong></p>
<p style="text-align: justify;">आज हम आपको कुछ बैंकों के बारे में जानकारी दे रहे हैं जहां आप सेंविंग्स अकाउंट खुलवाकर फायदा उठा सकते हैं. आरबीएल&ndash; 4.25 से 6.00 प्रतिशत, बंधन बैंक&ndash; 3.00 से 6.00 प्रतिशत, इंडसइंड बैंक- 4.00 से 6 प्रतिशत, यस बैंक- 4.00 से 5.50 प्रतिशत, आइडीएफसी फर्स्ट बैंक- 4.00 से 5.00 प्रतिशत, पोस्ट ऑफिस- 4.00 प्रतिशत, आईसीआसीआई- 3.00 से 3.50 प्रतिशत, एचडीएफसी- 3.00 से 3.50 प्रतिशत, पंजाब नेशनल बैंक- 2.90 प्रतिशत, बैंक ऑफ इंडिया- 2.90 प्रतिशत, एसबीआई- 2.70 प्रतिशत ब्याज दे रही है. ऐसे में आप इन जगहों पर खाता खुलवाने के पहले एक बार यह खबर जरूर पढ़ ले.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>सेविंग्स अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज पर भरना होगा टैक्स</strong></p>
<p style="text-align: justify;">इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80TTA के तहत बैंक/को-ऑपरेटिव सोसायटी/पोस्ट ऑफिस के सेविंग्स अकाउंट के मामले में ब्याज से सालाना 10 हजार रुपए तक की आय टैक्स फ्री है। इसका फायदा 60 साल से कम उम्र के व्यक्ति या संयुक्त हिन्दू परिवार को मिलता है. वहीं सीनियर सिटीजन के लिए यह छूट 50 हजार रुपये है. इससे अधिक होने पर टीडीएस काटा जाता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>क्या है टीडीएस</strong></p>
<p style="text-align: justify;">अगर किसी व्यक्ति की जो आय होती है उस कमाई में से टैक्स काटकर व्यक्ति को बाकी रकम दे दी जाती है. टैक्स के रूप में काटी गई इसी रकम को टीडीएस कहते हैं. टीडीएस के जरिए सरकार टैक्स का रकम जुटाती. यह व्यक्ति के कमाई पर अलग-अलग काटी जाती है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>यह भी पढ़ें:</strong></p>
<p class="article-title " style="text-align: justify;"><strong><a href="https://www.abplive.com/news/india/mobile-internet-service-again-ban-in-kashmir-after-gilani-death-1963165">कश्मीर में लोगों के एकत्रित होने पर लगी पाबंदी, मोबाइल इंटरनेट सेवा भी बंद</a></strong></p>
<p class="article-title " style="text-align: justify;"><strong><a href="https://www.abplive.com/auto/maruti-suzuki-recalls-his-1-81-lakh-car-1963183">Maruti Suzuki: मारुति सुजुकी ने अपने पांच मॉडल्स की 1.81 लाख कारों को बुलाया वापस, जानें क्यों किया ऐसा</a></strong></p>

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button